भारत के प्रमुख हिमनद (Bharat ke Pramukh Himnad)

 

 

  

भारत के हिमनद या ग्लेशियर(Glacier of India) – 

इसरो के अनुसार हिमालय के 75% हिमनद पिघल रहे हैं 8% विस्तार हो रहा है तथा 17% में कोई परिवर्तन नहीं हो रहा है.भारत के प्रमुख हिमनद (bharat ke pramukh himnad) इस प्रकार है –

  हिमनद का नाम

         स्थिति

लंबाई ( KM ) 

       सियाचिन

     काराकोरम

         75

       सासैनी

     काराकोरम

         68

       हिस्पारा

     काराकोरम

         61

       बियाफो

     काराकोरम

         60

       बाल्टोरो

     काराकोरम

         58

       चोगो लूंगमा

     काराकोरम

         50

       कोडोंपिन

     काराकोरम

         47

       रिमो

     काराकोरम

         40

       पिंडारी

     उत्तराखंड

         30

       पुन्माहा

     कश्मीर

         27

       गंगोत्री

     उत्तराखंड

         26

       जेमू

     सिक्किम/नेपाल

         25

       मिलम

     उत्तराखंड

         16

       रूपल

     कश्मीर

         16

       सोना पानी

     हिमाचल प्रदेश

         15

       यमनोत्री

     उत्तराखंड

         14

       सतोपंथ

     उत्तराखंड

         13

      बंदरपूछ

     उत्तराखंड

         12

      दियामीर

     कश्मीर

         11

 

 

 

 

 

 

 

bharat ke pramukh glacier (भारत के प्रमुख ग्लेशियर) –

 
 
bharat ke pramukh himnad

(1) सियाचिन ग्लेशियर –

सियाचिन ग्लेशियर हिमालय की पूर्वी काराकोरम पर्वतमाला में स्थित है, इसकी लंबाई 72 किमी.तथा चौड़ाई 2 से 8 किमी.है. यह समुद्र तल से 570 मीटर ऊंचा है.यहां का तापमान -50° C रहता है! 
 
सियाचिन ग्लेशियर से नुब्रा नदी का उद्गम होता है तथा नुब्रा नदी के आसपास का क्षेत्र नुब्रा घाटी क्षेत्र कहलाता है. यह ध्रुवीय क्षेत्र के बाहर विश्व का दूसरा सबसे लंबा अल्पाइन हिमनद है. यह हिमालय काराकोरम क्षेत्र का सबसे बड़ा हिमनद है! 
 

(2) गंगोत्री हिमनद(Gangotri Himnad) – 

गंगोत्री हिमनद के गोमुख नामक स्थान से से गंगा नदी का उद्गम होता है, जो भारत के उत्तराखंड राज्य के उत्तरकाशी जिले में स्थित है इसकी लंबाई 25 किमी है! यह उत्तराखंड का सबसे बड़ा हिमनद है इससे अंतर्गत रतनवन, चतुरंगी, स्वच्छंद, कैलाश तथा मान हिमनद आते हैं
 

(3) यमुनोत्री हिमनद(Yamunotri Glacier)

यह बंदरपूछ चोटी के पश्चिम भाग में स्थित है यमुनोत्री चार धाम यात्रा का पहला पड़ाव है. यह गढ़वाल हिमालय के पश्चिम दिशा में उत्तरकाशी जिले में स्थित है! 
 

(4) मिलाम ग्लेशियर (Milam Glacier)- 

मिलाम ग्लेशियर हिमालय पर्वत श्रृखला में पिथौरागढ़ जिले स्थित है, जिसकी ऊंचाई 3870 मीटर से लेकर 5500 मीटर तक है यह ग्लेशियर कुमाऊं क्षेत्र का सबसे बड़ा ग्लेशियर है यहां से गोरीगंगा नदी का उद्गम होता है, जो की काली नदी की सहायक नदी है! 
 
इस हिमनद से मिलाम नदी का भी उद्गम होता है. इस हिमनद पर जाने के लिए पहले सरकार से अनुमति लेना अनिवार्य है
 

(5) जेमू हिमनद(Jemu Glacier)-

यह पूर्वी हिमालय का सबसे बड़ा हिमनद है जिसकी लंबाई लगभग 26 किमी है यहां सिक्किम के हिमालय क्षेत्र में कंचनजंगा के आधार पर स्थित है! 
 

(6) चौराबाड़ी हिमनद(Chorabadi himnad) – 

यह उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले में केदारनाथ मंदिर से 6 किमी.उत्तर दिशा में स्थित है,जिसकी लंबाई 14 किमी है. इस हिमनद से मंदाकिनी नदी का उद्गम होता है! इस ग्लेशियर के पिघलने से एक झील का निर्माण हो गया है, जिसे गांधी सरोवर कहा जाता है! (bharat ke pramukh himnad)
 

(7) सतोपंथ हिमनद (Santopanth Himnad) – 

सतोपंथ का शाब्दिक अर्थ है- सत्य का मार्ग! यह ग्लेशियर उत्तराखंड के प्रसिद्ध ग्लेशियरों में से एक है! सतोपंथ हिमनद की लंबाई 13 किमी है तथा यह चमोली जिले में स्थित है. इस हिमनद से अलकनंदा नदी का उद्गम होता है! इससे ग्लेशियर का आकार धीरे-धीरे कम होता जा रहा है! 
 

(8) कंचनजंगा हिमनद (Kanchenjunga Himnad) – 

कंचनजंगा विश्व की सबसे ऊंची पर्वत चोटी है जिसकी ऊंचाई 8586 मीटर है या सिक्किम के उत्तर पश्चिम भाग में नेपाल की सीमा पर स्थित है यह चार हिमनद जेमू, तालूंग, यालूंग, कंचनजंगा आदि से मिलकर बना है
 
इन्हें भी पढ़े –

भारत की प्रमुख झीलें

भारत के प्रमुख नेशनल पार्क ( Bharat ke pramukh National Park) 

भारत के प्रमुख दर्रे ( Bharat ke pramukh Daree) 

भारत के प्रमुख जलप्रपात ( Bharat ke pramukh jalprapaat) 

भारत के प्रमुख बंदरगाह ( Bharat ke pramukh bandargah) 

Leave a Comment

error: Content is protected !!