Mountain and Mountain types in hindi

Mountain and Mountain types

 पर्वत ( Mountain) –

पर्वत भूखंड के वे भाग है जो आस-पास के क्षेत्र से ऊँचे होते हैं तथा जिनका अधिकांश क्षेत्रफल तीव्र ढाल के अंतर्गत होता है ! साधारण पर्वतों की ऊंचाई 600 मीटर या उससे अधिक होती है! पर्वतों का निर्माण सामान्यतः कई श्रृंखलाएं से मिलकर होता है ! एक ऐसे ऊंचे क्षेत्र को जिसमें कोई श्रृंखलाएं नहीं होती ,पहाड़ी कहते हैं,भले ही उसकी ऊंचाई 600 मीटर से अधिक हो ! भारत में नीलगिरी को पहाड़ियां कहां जाता है यद्व्यपि ये अरावली से अपेक्षाकृत अधिक ऊंची है जिसे एक पर्वत कहा जाता है

 

पर्वतों के प्रकार (Types of Mountain) –

निर्माण की प्रक्रिया के आधार पर पर्वत पांच प्रकार के होते हैं ! 

 

(1) वलित पर्वत (Mountain)- 

वलित पर्वतों का निर्माण चट्टानों में पृथ्वी की आंतरिक शक्तियों के प्रभाव से मोड़ या वलन पड जाने से होता है! वलन प्रक्रिया के दौरान संपीड़न से प्रभावित होने पर चट्टाने ऊपर या नीचे की ओर वलित हो जाती हैं ! चट्टानों के इस प्रकार मुड़कर ऊपर उठे भाग को अपनती तथा मोड़ कर नीचे धसे भागों को अभिनती कहा जाता है! ये

विश्व के सबसे युवा, ऊंचे तथा सर्वाधिक विस्तृत पर्वत है! ये महाद्वीपीय किनारों पर या फिर उत्तर से दक्षिण या पश्चिम सेपूर्व दिशा में पाए जाते हैं! हिमालय, अल्पाइन पर्वत समूह ,रॉकी एंडिज, अपलेशियन, एटलस, काकेशस, हिंदकुश आदि     वलित पर्वतों के प्रमुख उदाहरण हैं!  

 

ब्लॉक पर्वत ( Block Mountain)- 

कभी-कभी भूपर्पटी पर तनाव के कारण दरारे पड़ जाती है जिन्हें भ्रंश कहा जाता है! इस प्रकार चट्टानों के टूटने की प्रक्रिया को भ्रशन कहा जाता है! भ्रंश के कारण धरातल का भाग ऊपर उठ जाता है तथा कुछ भाग नीचे धस जाता है! इस प्रकार दरारों के समीप ऊंचे ऊठे भाग को ब्लॉक पर्वत कहा जाता है! 

इन पर्वतों के किनारे के ढाल अति खड़े होते हैं ! इनका आकार मैज के समान होता है! ब्लॉक पर्वतों के क्षेत्रों में अथवा अन्यत्र भ्रंश के कारण नीचे धसें भागों को भ्रंश घटिया कहां जाता है ! लाल सागर ,मृत सागर तथा नर्मदा घाटी अनेक इनके उदाहरण हैंं ! 

ब्लॉक पर्वत के उदाहरण वॉस्जेस (फ्रांस),ब्लैक फॉरेस्ट (जर्मनी),साल्ट रेंज (पाकिस्तान) बेसिन रेंज (अमेरिका) आदि! 

 

ज्वालामुखी पर्वत ( Volcano Mountain) –

ज्वालामुखी के उदगार से उत्सर्जित लावा के निक्षेपण के फलस्वरुप जिन पर्वतों का निर्माण होता है, उन्हें ज्वालामुखी पर्वत कहा जाता है! ज्वालामुखी पर्वतों को निक्षेपण से बने पर्वत भी कहा जाता है !इनका ढाल मुख्य रूप से लावा के स्वभाव या विखंडित पदार्थ की मात्रा पर आधारित होता है ! 

उदाहरण – किलमंजारो (अफ्रीका), कोटोपेक्सी (एंडीज) ,फ्यूजीयामा (जापान), विसूवियस (इटली), एकांकगुआ (चिली), माउंट रेडियो, हुंडई और शास्ता (अमेरिका) आदि! 

Leave a Comment

error: Content is protected !!