कांट की वायव्य राशि परिकल्पना (kant ki vayavya rashi parikalpana)

कांट की वायव्य राशि परिकल्पना (kant ki vayavya rashi parikalpana

कांट की वायव्य राशि परिकल्पना (kant ki vayavya rashi parikalpana) – पृथ्वी की उत्पत्ति के सम्बन्ध में जर्मन दार्शनिक काण्ट ने 1755 ई० में अपनी ‘वायव्य राशि परिकल्पना’ का प्रतिपादन किया …

Read more

वर्तमान में कौटिल्य के अर्थशास्त्र की प्रासंगिकता (kautilya ke arthashastra ki prasangikta)

वर्तमान में कौटिल्य के अर्थशास्त्र की प्रासंगिकता (kautilya ke arthashastra ki prasangikta)

कौटिल्य के अर्थशास्त्र की प्रासंगिकता (kautilya ke arthashastra ki prasangikta) – प्राचीन भारत को विश्वपटल एक बड़ी पहचान देने में अहम भूमिका निभाने वाले और भारत के मैक्यावली कहे जाने …

Read more

भारतीय राजनीतिक में कौटिल्य का योगदान एवं महत्व बताइए

भारतीय राजनीतिक में कौटिल्य का योगदान एवं महत्व (bhartiya rajnitik chintan me kautilya ka yogdaan

भारतीय राजनीतिक में कौटिल्य का योगदान एवं महत्व (bhartiya rajnitik chintan me kautilya ka yogdaan or mahatva bataiye) – प्राचीन भारतीय राजनीतिक चिन्तन में कौटिल्य का योगदान कौटिल्य की रचना …

Read more

कौटिल्य का राज्य का सप्तांग सिद्वांत का वर्णन कीजिए

कौटिल्य का राज्य का सप्तांग सिद्वांत (kautilya ka rajya ka saptang siddhant)

कौटिल्य का राज्य का सप्तांग सिद्वांत (kautilya ka rajya ka saptang siddhant) – प्राचीन भारतीय विचारक कौटिल्य का नाम ‘अर्थशास्त्र’ के लेखक के रूप में प्रसिद्ध है। कौटिल्य ने ‘अर्थशास्त्र’ …

Read more

कौटिल्य और मनु के राजनीतिक विचारों में तुलना कीजिए (kautilya aur manu ke rajnitik vicharon me tulna kijiye)

कौटिल्य और मनु के राजनीतिक विचारों में तुलना कीजिए (kautilya aur manu ke rajnitik vicharon me tulna kijiye)

कौटिल्य और मनु दोनों ही भारतीय राजनीतिक विचारक हैं! दोनों के विचार में कुछ समानता और असमानताएं पायीं जाती हैं! जो इस प्रकार हैं – कौटिल्य और मनु के राजनीतिक …

Read more

error: Content is protected !!