प्राकृतिक गैस(Natural Gas)क्या है? उसके उपयोग, प्रकार

Natural Gas

प्राकृतिक गैस ( Natural Gas in hindi) –

खनिज तेल के साथ गैस की कुछ मात्रा संयुक्त रुप में उपस्थित होती है, जिसे प्राकृतिक गैस (Natural Gas) कहते हैं ! यह जीवाश्म ईंधन हैं! यह तटीय क्षेत्रों एवं नदी बेसिन में पाई जाती है! प्राकृतिक गैस (Natural Gas) में 95% तक हाइड्रोकार्बन होता है,जिसमें 80% तक मिथेन गैस रहती है! 

प्राकृतिक गैस (Natural Gas) ईधन का प्रमुख स्त्रोत है! यह अन्य जीवाश्म ईधनो के साथ पाई जाती है ! यह करोड़ों वर्षों पूर्व धरती के अंदर जमे हुए, मरे हुए जीवो के सड़े गले पदार्थ से बनती है !यह गैसीय अवस्था में पाई जाती है! सामान्यतः यह मेथेन, एथेन, प्रोपेन ब्यूटेन, पेन्टेन, का मिश्रण है ! 

भारत में यह बेसन (आंध्र प्रदेश ),बाड़मेर (राजस्थान) एवं मुंबई (महाराष्ट्र ) में पाई जाती है इसके द्वारा 994 MV ऊर्जा का उत्पादन किया जाता है! 

 

उपयोग ( Use Of Natural Gas in hindi ) – 

(1) खाद निर्माण में ! 

(2) विद्युत बनाने में! 

(3) नगर गैस वितरण में ! 

(4) घरेलू गैस के उपयोग में ! 

(5) वाहनों के ईंधन के रूप में ! 

(6) कारखानों में ईंधन के रूप ! 

एलपीजी (LPG) – 

Natural Gas

LPG को घरों में प्रयोग होने वाली द्रवित प्राकृतिक गैस के रूप में जाना जाता है ! यह ब्युटेन और प्रोपेन का मिश्रण होता है, जिसे उच्च ताप पर द्रवित कर सिलेंडरों में भरा जाता है ! एलपीजी गंधहीन एवं अत्यधिक ज्वलनशील गैस होती है !

अतः इससे होने वाली दुर्घटना से बचने के लिए सल्फर के यौगिक मिथाइल मार्केप्टन को मिला दिया जाता है, ताकि इसके रिसाव की गंध को पहचाना जा सके! 160°C ताप पर प्राकृतिक गैस को ठंडा कर तरल अवस्था में लाया जाता है! 

फायदे (benefits Of LPG in hindi) –

(1) इसे जलाना बहुत आसान है और जलाने के बाद तुरंत ऊर्जा प्रदान करता है ! 

(2) LPG अन्य विकल्पों की तुलना में कम मात्रा में ग्रीनहाउस गैस का उत्सर्जन करती है ! 

(3) यह उपयोग करने में सुविधाजनक है ! 

(4) इसका भण्डारण और परिवहन करना बहुत आसान है ! 

नुकसान ( Disadvantages Of LPG in hindi ) –

(1) LPG एक परिमित संसाधन है ! 

(2) खराब हो चुके उपकरणों या गलत उपयोग के मामले में एलपीजी विस्फोट कहां जोखिम होता है ! 

(3) अविश्वसनीय ज्ञान उपलब्ध वितरण नेटवर्क के कारण ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंच की कमी ! 

(4) बहुत से परिवार से इसका मूल्य चुकाने पाने में सक्षम नहीं है! 

 

 सीएनजी (CNG) –

इसे कंप्रेस्ड नेचुरल गैस के नाम से जाना जाता है,इसमें 95% तक मिथेन होता है! कम घनत्व एवं भंडारण क्षमता बढ़ाने हेतु उसे कई बार दबाव बनाकर कंप्रेस करवाना में भरा जाता है!

प्राकृतिक गैस को 200 से 250 तक संपीड़ित करके सिलेंडरों में भरा जाता है हवा से हल्की होने के कारण इसका रिसाव वायुमंडल में तेजी से होता है ! सर्वप्रथम सीएनजी स्टेशन तमिलनाडु के नागापटनम जिले में स्थापित किया गया! 

 पारंपरिक तरल ऑटो ईधन की तुलना में सीएनजी बहुत हद तक किफायती एवं पर्यावरण के अनुकूल है ! रह इंजन की क्षमता को बढ़ाता है एवं एक बार लागत के बाद ज्यादा खर्च नहीं होता है 

वहीं दूसरी ओर इसके सर्विस सेंटर कम है एवं इसके प्रयोग से गाड़ियों का एग्जास्ट वाल्व जल्दी खराब हो जाता है इसमें लीकेज का पता लगाना मुश्किल होता है 

 

 पीएनजी (PNG ) –   

इसे पाइप प्लांट नेचुरल गैस के नाम से जाना जाता है शेरों में प्राकृतिक गैस कार्बन स्टील पॉलीएथिलीन लाइनों में उच्चतम दाब 90 kg/cm वर्ग एवं न्यूनतम 40 kg/cm वर्ग पर भरी जाती है ! पीएनजी को घरेलू कार्यों जैसे – पानी गर्म करना ,भोजन बनाना ,अस्पताल ,नर्सिंग, होटल आदि में प्रयोग किया जाता है! 

 

प्राकृतिक गैस के नकारात्मक प्रभाव (Negative Effects Of Natural Gas in hindi) –

(1) प्राकृतिक गैस के रिसाव से जल प्रदूषण होता है ! 

(2) उचित व्यवस्था न होने के कारण प्राकृतिक गैस के अकस्मात रिसाव से आग लग जाती है जो कई दिनों व सप्ताह तक जलती रहती है! 

Leave a Comment

error: Content is protected !!