सागरिका मिसाइल(sagarika missile) क्या है ? इसकी प्रमुख विशेषताएं

Sagarika Missile k15, BO5,
sagarika-missile

Submarin

Sagarika Missile –

सागरिका मिसाइल (sagarika-missile) को K 15 या BO5 मिसाइल भी कहा जाता है! यह k-series की मिसाइल है, इस मिसाइल का नामकरण पूर्व राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम के नाम पर रखा गया है! 
इसे DRDO द्वारा हैदराबाद में स्थित मिसाइल  काम्पलेक्स में विकसित किया गया है, इसका विकास कार्य 1990 में प्रारंभ किया गया था इसका विकास मुख्यता अरिहंत श्रेणी की सबमरीन के लिए किया गया है! 26 फरवरी 2008 पोन्टून नाव से इसका सफल परीक्षण किया गया! 

सागरिका मिसाइल की विशेषताएं ( Quality of  Sagarika Missile ) –

(1) यह एक न्यूक्लियर कैपेबल सबमरीन लांच बैलेस्टिक मिसाइल है! 
 
(2) इसमें दो स्टेज ठोस ईधन का प्रयोग किया गया है, 
 
(3) सागरिका मिसाइल में एयरो डायनॉमिक्स, कंट्रोल, गाइडेंस और नेवीगेशन की आधुनिक तकनीक का उपयोग किया गया है! 
 
(4) इसे आण्विक एवं परंपरागत दोनों हथियारों की तरह उपयोग किया जा सकता है! 
 
(5) इसे अलग से लांच करने के लिए एक मिसाइल लांचर को भी विकसित किया गया है,जिसे प्रोजेक्ट 420 कहा जाता है! 
 
(6) इसकी रेंज 1000 Kg पेलोड के साथ 750 KM तथा 500 Kg पेलोड के साथ 1900 KM तक है! 
 
(7) sagarika missile की लंबाई लगभग 10 मीटर है तथा वजन 6 टन है, इसका व्यास 2.4 फीट है! 
 
(8) sagarika missile अपने साथ 1000 Kg के परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम है
 
 
 

Leave a Comment

error: Content is protected !!