खाद्य सुरक्षा (Food Security) क्या है? भारत के लिए खाद्य सुरक्षा की आवश्यकता एवं महत्व

खाद्य सुरक्षा क्या है (Food Security in hindi) –

खाद्य सुरक्षा (Food Security) का अर्थ है, सभी लोगों के लिए सदैव भोजन की उपलब्धता, पहुंच और उसे प्राप्त करने का सामर्थ्य! जब भी अनाज उत्पादन में विश्व के वितरण की समस्या आती है, तो सहज ही निर्धन परिवार इससे अधिक प्रभावित होते हैं! खाद्य सुरक्षा सार्वजनिक वितरण प्रणाली, शासकीय सतर्कता और खाद्य सुरक्षा के खतरे की स्थिति में सरकार द्वारा की गई कार्रवाई पर निर्भर करती है! 

सरलतम रूप में खाद्य सुरक्षा का अर्थ है – सभी लोगों हेतु पौष्टिक भोजन की उपलब्धता! साथ ही यह भी आवश्यक है कि व्यक्ति के पास भोजन व्यवस्था करने के लिए पर्याप्त क्रय-शक्ति (पैसा) हो तथा खाद्यान्न उचित मूल्य पर उपलब्ध रहे! 

विश्व विकास रिपोर्ट के अनुसार खाद्यान्न सुरक्षा, सभी व्यक्तियों के लिए सभी समय पर सक्रिय और स्वस्थ जीवन हेतु पर्याप्त भोजन की उपलब्धता है!

खाद्य सुरक्षा क्यों आवश्यक है (Why food security is essential in hindi) – 

समाज का अधिक गरीब वर्ग तो हर समय खाद्य सुरक्षा से ग्रस्त हो सकता है, परंतु जब देश भूकंप, सूखा, बाढ़, सुनामी, फसलों के खराब होने से पैदा हुए अकाल आदि राष्ट्रीय आपदा से गुजर रहा हो तो निर्धनता रेखा से ऊपर के लोग भी खाद्य सुरक्षा से ग्रस्त हो सकते हैं! Aऐसी विषम परिस्थितियों से बचने के लिए खाद्य सुरक्षा आवश्यक है! 

भारत के लिए खाद्य सुरक्षा की आवश्यकता एवं महत्व (Need and importance of food security for India in hindi) – 

भारत की वर्तमान स्थिति में खाद्य सुरक्षा (Food Security) का महत्व बहुत अधिक बढ़ गया है एक और तो हमारी अर्थव्यवस्था विकासशील है दूसरी और जनसंख्या भी तेजी से बढ़ रही है अतः खाद्यान्नों की बढ़ती हुई मांगों की पूर्ति के लिए खाद्य सुरक्षा आवश्यक है इसके दो प्रमुख कारण इस प्रकार है – (1) आंतरिक कारण  (2) बाहय कारण! 

(1) खाद्य सुरक्षा के आंतरिक कारण (Internal reasons for food security) –

इसमें वे कारण शामिल है जो देश की भीतरी परिस्थितियों संबंधित है! आंतरिक सुरक्षा निम्नलिखित है –

(1) जीवन का आधार – 

भारत एक विशाल जनसंख्या वाला देश है! इसकी जन्म दर भी ऊंची है! अतः लोगों के भरण-पोषण के लिए एवं उन्हें कुपोषण से बचाने के लिए खाद्य सुरक्षा बहुत आवश्यक है! 

(2) मानसून पर निर्भरता – 

भारतीय कृषि मानसून पर निर्भर है, जबकि मानसून अनियमित और अनिश्चित होता है! वर्षा का वितरण किया असमान है! अत: कभी भी देश में सूखे एवं अकाल की स्थिति बन जाती है! इस कारण भी खाद्यान्न सुरक्षा आवश्यक है! 

(3) कम उत्पादकता – 

भारत में खाद्यान्न उत्पादकता, प्रति हेक्टेयर तथा प्रति श्रमिक दोनों ही दृष्टि से कम है! इस दृष्टि से भी खाद्यान्न सुरक्षा आवश्यक है! 

(4) प्राकृतिक आपदाएं – 

बाढ़, कीड़े-मकोड़े, शीतलहर, मिट्टी के कटाव आदि देसी किसी न किसी भाग में अनाज की फसलों को नष्ट कर देते हैं! अतः खाद्यान्न समस्या और विकराल हो जाती है ऐसी परिस्थिति का सामना करने के लिए खाद्य सुरक्षा अत्यंत आवश्यक है! 

(5) निरंतर बढ़ती हुई मांग – 

खाद्यान्नों की कीमतों में निरंतर वृद्धि के परिणामस्वरुप भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो जाती है! 

खाद्य सुरक्षा के बाहय कारण (External reasons for food security in hindi) – 

बाहय कारण मे वे कारण शामिल है जो दूसरे देशों के साथ हमारे देश के संबंधों की वजह से जुड़े होते हैं, यह बाहय कारण निम्नलिखित हैं-

(1) विदेशों पर निर्भरता – 

खाद्यान्नों की आवश्यकता मनुष्य की मूलभूत आवश्यकता होती है! अतः इनकी पूर्ति न होने पर देश की सरकार, विदेशों पर निर्भर हो जाती है! फिर खाद्यान्न महंगे हो या सस्ते अथवा उनकी गुणवत्ता अच्छी हो या ना हो, हमें खाद्यान्न आयात करना ही पड़ता है! 

(2) विदेशी मुद्रा कोष में कमी – 

जब हम विदेशों से खाद्यान्न जैसी वस्तुएं मंगाते हैं, तो हमारी विदेशी मुद्रा अनावश्यक रूप से खर्च हो जाती है! खाद्यान्न की पूर्ति तो हम स्वयं भी कर सकते हैं, पर नहीं कर पाते! इसलिए हमारे पास विदेशी मुद्रा की कमी हो जाती है! 

(3) विदेशी दबाव – 

जो देश खाद्यान्नों की आपूर्ति करते हैं, वे देश प्रभावशाली हो जाते हैं और फिर अपनी नीतियों को मनवाने का प्रयास करते हैं! ऐसे देश खाद्यान्न का आयात करने वाले देशों पर हावी हो जाते हैं! 

Leave a Comment

error: Content is protected !!