सार्वजनिक वितरण प्रणाली (Public distribution system) क्या है? इसकी सीमाएँ

सार्वजनिक वितरण प्रणाली (public distribution system in hindi)- 

सार्वजनिक वितरण प्रणाली (Public distribution system) का आशय उस प्रणाली से है, जिसके अंतर्गत सार्वजनिक रूप से उपभोक्ताओं को विशेषकर कमजोर वर्गों के उपभोक्ता वस्तु को निर्धारित कीमतों पर उचित मात्रा में विभिन्न उपभोक्ता वस्तुएं बेची जाती है!इस प्रणाली में विभिन्न वस्तुओं की (गेहूं, चावल, चीनी आदि) का विक्रय राशन की दुकान और सहकारी उपभोक्ता भंडार के माध्यम से कराया जाता है! इन विक्रेताओं के लिए लाभ की दर निश्चित रहती है तथा इन्हें निश्चित कीमत और निश्चित मात्रा में वस्तुएं राशनकार्ड धारियों को बेचनी पड़ती है! 

भारत सरकार ने गरीबों पर ध्यान केंद्रित करते हुए  जून 1997 में लक्षित सार्वजनिक वितरण प्रणाली शुरू की थी! लक्षित सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अधीन राज्यों के लिए यह अपेक्षित था कि वह खाद्यान्नों की सुपुर्दगी की देने और उचित स्तर पर इनका पारदर्शी और जवाबदेही तरीके से वितरण करने के लिए गरीबों की पहचान करने की पुख्ता व्यवस्था बनाएं और उनका क्रियान्वयन करें! 

सार्वजनिक वितरण प्रणाली (Public distribution system) का संचालन, केंद्र तथा राज्य सरकार मिलकर करती है! केंद्र सरकार द्वारा राज्यों को खाद्यान्न एवं अन्य वस्तुओं का आवंटन किया जाता है एवं इन वस्तुओं का मूल्य भी तय किया जाता है! राज्यों को केंद्र द्वारा निर्धारित मूल्य में परिवहन व्यय सम्मिलित करने का अधिकार है! 
इस प्रणाली के अंतर्गत प्राप्त वस्तुओं का परिवहन, संग्रहण, वितरण और निरीक्षण राज्य सरकार द्वारा किया जाता है! राज्य सरकार चाहे तो अन्य वस्तुएं जिन्हें वे खरीद सकते हैं, सार्वजनिक वितरण प्रणाली में सम्मिलित कर सकती है! 

सार्वजनिक वितरण प्रणाली की सीमाएं (Limitations of Public Distribution System in hindi) – 

सार्वजनिक वितरण प्रणाली (Public distribution system) केंद्र और राज्य सरकारों की संयुक्त जिम्मेदारी के अधीन चलाई जाती है! पर दोनों के मध्य समन्वय की कमी है, खाद्यान्नों की खरीद, भंडारण, ढलाई और बल्क आंवटन करने में पारदर्शिता की कमी तथा लक्षित परिवारों की पहचान करने, राशन कार्ड जारी करने और उचित दरों पर दुकानों के कार्यकरण का पर्यवेक्षण करने सहित अन्य प्रचालानत्मक कार्रवाई में कमी जैसे लक्षण देखे जाते हैं! 

सार्वजनिक वितरण प्रणाली (Public distribution system) की प्रमुख कमियां इस प्रकार है –

(1) इस प्रणाली में वस्तुओं पर दी जाने वाली सब्सिडी के कारण राजकोष पर भारी दबाव पड़ता है! हालांकि सीधे लाभ हस्तांतरण द्वारा सब्सिडी को नियंत्रित करने का प्रयास सरकार द्वारा किया गया है!

 (2) कुछ सर्वेक्षणों के आधार पर यह बात सामने आई है कि ग्रामीण क्षेत्रों में गरीबों को अब भी खुले बाजारों पर अधिक निर्भर रहना पड़ता है अर्थात इन क्षेत्रों में पीडीएस का संपूर्ण लाभ नहीं पहुंच पाया है! 

(3) सार्वजनिक वितरण प्रणाली वस्तुओं की कीमत में उछाल का प्रमुख कारण है, क्योंकि सरकार द्वारा खाद्यान्नों की बड़ी मात्रा में खरीदी की जाती है! जिससे खुले बाजारों में इसकी उपलब्धता में कमी आ जाती है, जिसे खाद्यान्न की कीमत में वृद्धि हो जाती है! 

(4) लीकेज इस प्रणाली की एक और प्रमुख समस्या रही है! इसमें खाद्यान्न हितग्राहियों तक न पहुंच कर सीधे खुले बाजार में पहुंचता है! 

इन्हें भी पढ़ें –

स्वयं सहायता समूह क्या है?इसकी आवश्यकता उद्देश्य और महत्व!

वित्तीय समावेशन क्या है इसके लाभ एवं अभाव से उत्पन्न चुनौतियां

बेरोजगारी क्या है? बेरोजगारी के प्रकार कारण और परिणाम

2 thoughts on “सार्वजनिक वितरण प्रणाली (Public distribution system) क्या है? इसकी सीमाएँ”

  1. बढ़िया है इसको अपनी भाषा में ही लिखो मौलिकता देखें

    Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!