भारत में यातायात विकास (Traffic development in india) की बड़ी समस्याएं कौन सी है?

भारत में यातायात विकास (Traffic development in india in hindi)-

भारत के निरंतर विकास में सुचारू और समंवित परिवहन प्रणाली की बहुत महत्वपूर्ण भूमिका है! वर्तमान प्रणाली में यातायात के अनेक साधन जैसे सड़क, रेल, तटवर्ती नौवहन संचालन, वायु परिवहन आदि शामिल है! पिछले कुछ वर्षों में इस क्षेत्र में उल्लेखनीय वृद्धि के साथ-साथ इसका विस्तार हुआ है और क्षमता भी बड़ी है! 

जहाजरानी, सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय, रेल एवं नागर विमानन को छोड़कर परिवहन के विभिन्न साधनों के विकास के लिए नीतिगत कार्यक्रम बनाने और लागू करने की जिम्मेदारी निभाता है, लेकिन इन सबके बावजूद भी भारत में यातायात विकास के अनेक समस्या विद्वान हैं! 

भारत में यातायात विकास की प्रमुख समस्याएं (Major problems of traffic development in India in hindi) –

भारत में यातायात विकास की प्रमुख समस्याएं इस प्रकार है –

(1) सड़कों के निर्माण और रखरखाव के लिए धन की कमी है इस कार्य को उच्च प्राथमिकता देने के बजाय प्रतिशत आबंटन में कमी आई है! 

(2) सड़क सुरक्षा पर बहुत कम ध्यान दिया गया है और यातायात कानूनों का जानबूझकर उल्लंघन किया जाता है! 

(3) भारतीय सड़कों पर मरम्मत की दुकानें, प्राथमिक चिकित्सा केंद्र, टेलीफोन, स्वच्छ शौचालय  रेस्तरां और बाकी जगह की कमी है! 

(4) कई चेक पोस्टर, टोल टैक्स और सड़कों पर यातायात शुल्क का संग्रह किया जाता है, जो यातायात की गति को धीमा करते हैं, समय की बर्बादी करते हैं और ट्रांसपोर्टरों में जलन पैदा करते हैं! 

(5) भारत में सड़क विकास में निजी क्षेत्र की बहुत कम भागीदारी है, क्योंकि लंबे समय तक गर्भावस्था अवधि एवं कम रिटर्न सड़कों में निजी निवेश के लिए विधायी रुपरेखा भी संतोषजनक नहीं है!  सड़क इंजीनियरिंग और निर्माण अभी तक भविष्य की चुनौतियों का सामना करने के लिए खुद को तैयार नहीं कर पाए हैं! 

(6) भारत में राजमार्ग विकास संबंधित नीतियों में कोई स्थिरता नहीं है! यह सरकार के बदलाव के साथ बदल जाती है कई ऐसी एजेंसियां हैं, जो विभिन्न प्रकार के सड़कों के निर्माण और रखरखाव की देखभाल करती है चूंकि इन एजेंसियों के बीच कोई समन्वय नहीं होता है इसलिए उनके निर्णय अक्सर विवादित और विरोधाभासी होते हैं! 

(7) भारतीय सड़कों की एक प्रमुख समस्या है – यातायात का मिश्रण! एक ही सड़क का उपयोग उच्च गति वाली कारों, ट्रकों, दोपहिया वाहनों, ट्रैक्टर, पशु चलित गाड़ियां,, साइकिल चालक और यहां तक कि जानवरों द्वारा भी प्रयोग किया जाता है! यहां तक कि  राजमार्ग अभी इस रोग से मुक्त नहीं है! इससे ट्रैफिक का समय, भीड़, प्रदूषण और सड़क दुर्घटनाओं की संभावना बढ़ जाती है! 

(8) भारतीय सड़कों में से अधिकांश सड़क असुरक्षित है और वाहनो का यातायात के उपयोग के लिए उपयुक्त नहीं है! सड़कों की खराब रखरखाव विशेष रूप से बरसात के मौसम में समस्या को बढ़ाता है! 

(9) आधुनिकीकरण और परिवहन प्रणाली में नवीनतम तकनीक के उपयोग की आवश्यकता है! रेल और सड़क परिवहन की व्यवस्था में हम पुरानी तकनीक का उपयोग कर रहे हैं, हमारा सड़क निर्माण घटिया है और हमारे इंजन डिजाइन, पुराने सिगनलिंग सिस्टम वाहन और पुरानी पटरियाँ रेलवे की परिवहन की मुख्य समस्याएं है! 

(10) राष्ट्रीय राजमार्गों की अपर्याप्त क्षमता, कमजोर फुटपाथ, खराब सवारी की गुणवत्ता, पुराने पुल, बिना बकाया स्तर के क्रासिंग, भीडभाड वाले शहर, रास्ते की खामियों की कमी और सुरक्षा उपायों की कमी से ग्रस्त है! 

भारत में उपरोक्त समस्याएं यातायात विकास में देखी जाती हैं इसमें से अनेक समस्याओं को सुलझाने का प्रयास किया जा रहा है, परंतु उसकी गति अभी बहुत धीमी है! हम उम्मीद कर सकते हैं कि भारत भविष्य में इन समस्याओं से मुक्त हो सकेगा और भारत में यातायात विकास को सुगम बनाया जा सकेगा! 

Leave a Comment

error: Content is protected !!