भौगोलिक सूचना प्रणाली क्या है? भौगोलिक सूचना प्रणाली के घटक एवं उपयोग

भौगोलिक सूचना प्रणाली क्या है (Geographic Information Systems in hindi) –

भौगोलिक सूचना प्रणाली (GIS) पृथ्वी की सतह पर भौगोलिक स्थिति के लिए डेटा संग्रह, विश्लेषण और कल्पना करता है! GIS एक कंप्यूटर-आधारित उपकरण है जो स्थानिक संबंधों, पैटर्न और रुझानों की जांच करता है भूगोल को डेटा से जोड़कर जीआईएस भौगोलिक संदर्भ का उपयोग करके डाटा को बेहतर ढंग से समझता है! 

भौगोलिक सूचना प्रौद्योगिकी से अभिप्राय किसी स्थान अथवा क्षेत्र विषय से संबंधित आंकड़ों एवं सूचनाओं का एकीकरण करना तथा कंप्यूटर द्वारा उन सूचनाओं की संगणना, भंडारण, विशेषण और उपयोग करने से है!  

भौगोलिक सूचना तंत्र, सूचनाओं का अपार भंडार है जिसमें स्थानीय आंकड़ों, विशिष्ट सूचनाओं की स्थिति निर्धारण, पृथ्वी से संदर्भित आंकड़ों के प्रग्रहण, भंडारण, जांच समन्वय, हेर-फेर, विश्लेषण, प्रदर्शन आदि को सम्मिलित किया जाता हैं! इन सभी सूचनाओं के तंत्र को “भौगोलिक सूचना तंत्र” कहते हैं

गिस फुल फॉर्म (GIS ka full form in hindi)-

गिस (GIS) फुल फॉर्म -Geographic Information Systems है, जिसका हिंदी अर्थ भौगोलिक सूचना प्रणाली होता है!

भौगोलिक सूचना प्रणाली के घटक (gis ke ghatak in hindi) – 

 भौगोलिक सूचना प्रणाली या जीआईएस (GIS)  घटक इस प्रकार है –

(1) डाटा –  

जीआईएस स्थान डाटा को विषयगत परतों के रूप में संग्रहित करता है! प्रत्येक डाटा सेट में एक विशेषता तालिका होती है, जो सुविधा के बारे में जानकारी संग्रहित करती है! जीआईएस डाटा के दो मुख्य प्रकार रेखापुंज और वेक्टर हैं! 

(2) हार्डवेयर – 

हार्डवेयर जीआईएस सॉफ्टवेयर चलाता है! यह शक्तिशाली सर्वर मोबाइल फोन या व्यक्तिगत जीआईएस वर्कस्टेशन से कुछ भी हो सकता है! सीपीयू आपका वर्कहार्स है और डाटा प्रोसेसिंग गेम का नाम है! दोहरे मॉनिटर अतिरिक्त भंडारण और कुरकुरा ग्राफिक्स प्रोसेसिंग काट दिया इसमें भी होने चाहिए!  

(3) सॉफ्टवेयर –  

आर्कजीस और क्यूजीआईएस GIS सॉफ्टवेयर में अग्रणी है! GIS सॉफ्टवेयर मानचित्रों में गणित का उपयोग करके स्थानिक विश्लेषण के विशेषज्ञ है! यह हमारी दुनिया को मापने, मात्रा निर्धारित करने और समझने के लिए आधुनिक तकनीक के साथ भूगोल को मिश्रित करता है! 

(4) लोग –

सूचना तंत्र से उपलब्ध सूचनाओं और ऑकडों का उपयोग लोगों अर्थात विषय विशेषज्ञों, वैज्ञानिकों, विद्वानों, प्रशासकों आदि द्वारा किया जाता है तथा उनका विश्लेषण कर विभिन्न प्रकार के समस्याओं का समाधान किया जाता है!

(5) प्रक्रिया –

प्रक्रिया में आंकड़ों का प्रत्यानयन, तंत्र में निवेश, संचय, प्रबंध, रूपांतरण, विश्लेषण और अंत में तंत्र में बहिर्वेश सम्मिलित हैं! 

भौगोलिक सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग (Applications of Geographic Information Technology in hindi)-

(1) मैपिंग –

जीआईएस का उपयोग डाटा की एक दृश्य व्याख्या करने के लिए किया जाता है! गूगल मैप्स वेब आधारित जीआईएस मैपिंग समाधान का एक उत्कृष्ट उदाहरण है! इसका उपयोग लोग रोजमर्रा के नेविगेशन उद्देश्यों को पूरा करने के लिए करते हैं!  

(2) दूरसंचार और नेटवर्क सेवाएं – 

संगठन अपने जटिल नेटवर्क डिजाइन, अनुकूलन, योजना और रखरखाव गतिविधियों में भौगोलिक डाटा को शामिल कर सकते हैं! यह डाटा बेहतर ग्राहक संबंध प्रबंधन और स्थान सेवा के माध्यम से दूर संचार प्रक्रिया को बढ़ाता है! 

(3) पर्यावरणीय प्रभाव विश्लेषण – 

प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण और पर्यावरण की रक्षा के लिए जीआईएस अनुप्रयोगों के माध्यम से एकत्रित डाटा महत्वपूर्ण है! प्रभाव कथन पर्यावरण पर मानव प्रभाव के परिमाण का आकलन करते हैं, जिससे जीआईएस एकीकरण संकेत देने में मदद करता है! 

(4) शहरी नियोजन – 

जीआईएस डाटा शहरी विकास और विस्तार की दिशा का विश्लेषण करता है! जब उचित रूप से लागू किया जाता है, तो यह सफल निर्माण के लिए आवश्यक विभिन्न कारकों को देखते हुए, आगे के विकास के लिए नए स्थानों की खोज कर सकता है! 

(5) कृषि अनुप्रयोग – 

उन्नत डाटा में मिट्टी के आंकड़ों का विश्लेषण करने के साथ, जीआईएस डाटा अधिक कुशल कृषि तकनीक बनाने में मदद करता है! इससे दुनिया के विभिन्न हिस्सों में खाद्य उत्पादन बढ़ सकता है! 

भौगोलिक सूचना तंत्र के प्रमुख फायदे या लाभ (Advantages of gis in hindi) –  

(1) डेरी उद्योग. वितरण, उत्पादन और दुकानों के स्थान की पहचान के लिए जीआईएस डेटा का उपयोग करता है! 

(2) कृषि उत्पादन के लिए कीट नियंत्रण आवश्यक है और जीआईएस तकनीक प्रभावित क्षेत्रों की मैपिंग में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है! 

(3) वेब आधारित नेविगेशन मानचित्र जनता को उपयोगी जानकारी प्रदान करने के लिए GIS डेटा का उपयोग करते हैं! 

(4) इसका उपयोग रॉक विशेषताओं का विश्लेषण करने और विभिन्न कार्यों के लिए सर्वोत्तम स्थान की पहचान करने के लिए भी किया जा सकता है! (5) भौगोलिक सूचना तंत्र की सहायता से पर्यावरण का संरक्षण किया जा सकता हैं!  

भारत में भौगोलिक सूचना प्रणाली का उपयोग (bharat me gis ke upyog) –

भारत में वर्तमान में इस तकनीक का उपयोग होने लगा है! भारत का जनसंख्या स्थिर कोष इस कार्य को कर रहा है! यह मानचित्रों और जनसंख्या के आंकड़ों के अद्वितीय एकीकरण के जरिए समस्त भारत में 458 जिलों के मानचित्र तैयार कर चुका है, जो प्रत्येक जिले, इसके प्रभागों और प्रत्येक गांव की जनसंख्या तथा स्वास्थ्य सुविधाओं से दूरी की स्थिति को दर्शाते हैं! 

प्रत्येक गांव तक पहुंचाई गई सुविधा की विषमताओं को भी मानचित्र में दर्शाया गया है! साथ ही जिन क्षेत्रों में सुविधा का अभाव है, उन क्षेत्रों में आवश्यकतानुसार सुविधा उपलब्ध कराने संबंधी जानकारी प्रदान की गई है! 

प्रश्न :- gis क्या है (gis kya hai)

उत्तर :- GIS पृथ्वी की सतह पर भौगोलिक स्थिति के लिए डेटा संग्रह, विश्लेषण और कल्पना करता है! GIS एक कंप्यूटर-आधारित उपकरण है जो स्थानिक संबंधों, पैटर्न और रुझानों की जांच करता है भूगोल को डेटा से जोड़कर जीआईएस भौगोलिक संदर्भ का उपयोग करके डाटा को बेहतर ढंग से समझता है! 

2 thoughts on “भौगोलिक सूचना प्रणाली क्या है? भौगोलिक सूचना प्रणाली के घटक एवं उपयोग”

  1. आपने बहुत ही अच्छी जानकारी प्रदान की है, इससे मुझे कुछ नया सीखने को मिला। इससे पहले तक मैंने GIS के बारे में सुना तक नहीं था।

    Reply

Leave a Comment

error: Content is protected !!