अर्थव्यवस्था किसे कहते हैं? Economy की परिभाषा एवं प्रकार

अर्थव्यवस्था किसे कहते हैं (Definitions of Economy in hindi Upsc) – 

अर्थव्यवस्था (Economy) एक अधूरा शब्द है, अगर इसके पूर्व किसी देश या किसी क्षेत्र-विशेष का नाम न जोड़ा जाए! वास्तव में जब हम किसी देश को उसके समस्त आर्थिक क्रियाओं के संदर्भ में परिभाषित करते हैं, तो उसे अर्थव्यवस्था कहते हैं! अकुशल व्यक्ति अर्थव्यवस्था के लिए बोझ होते हैं! अर्थव्यवस्था के क्षेत्र में सिद्धांतों को अपनाने के बाद की वास्तविक तस्वीर होती है! 

अर्थव्यवस्था के प्रकार (Types of Economy in hindi) – 

संगठन के आधार पर अर्थव्यवस्था के प्रकार –

संगठन के आधार पर अर्थव्यवस्था तीन प्रकार की होती है –

(1) पूंजीवादी अर्थव्यवस्था क्या है (Capital Economy in hindi) – 

1776 में स्कॉटलैंड के अर्थशास्त्री द्वारा रचित किताब “द वेल्थ ऑफ नेशन” को पूंजीवादी अर्थव्यवस्था का उद्गम स्त्रोत माना जाता है! पूंजीवादी अर्थव्यवस्था में क्या उत्पादन करना है, कितना उत्पादन करना है और उसे किस कीमत पर बेचना है. यह सब बाजार तय करता है, इसमें सरकार की कोई भूमिका (आर्थिक)नहीं होती है! पूंजीवादी अर्थव्यवस्था लाभ के सिद्धांत पर आधारित है! 

(2) राज्य अर्थव्यवस्था क्या है (State Economy in hindi) – 

इसकी उत्पत्ति पूंजीवादी अर्थव्यवस्था की लोकप्रियता के विरोध स्वरूप हुई! इसका सिद्धांत जर्मन दार्शनिक कार्ल मार्क्स ने दिया था! इसमें उत्पादन, आपूर्ति और कीमत सबका फैसला सरकार द्वारा लिया जाता है! ऐसी अर्थव्यवस्था को केंद्रीय नियोजित अर्थव्यवस्था कहते हैं, जो गैर बाजार अर्थव्यवस्था होती है! 

राज्य अर्थव्यवस्था की दो अलग-अलग शैली नजर आती है! सोवियत संघ की अर्थव्यवस्था को समाजवादी अर्थव्यवस्था कहते हैं जबकि 1985 ई. से पहले चीन की अर्थव्यवस्था को साम्यवादी अर्थव्यवस्था कहते हैं! 
समाजवादी अर्थव्यवस्था में उत्पादन के साधनों पर सामूहिक नियंत्रण के बात शामिल थी और अर्थव्यवस्था को चलाने में सरकार की बड़ी भूमिका थी, वही साम्यवादी अर्थव्यवस्था में सभी संपत्तियों पर सरकार का नियंत्रण था और श्रम संसाधन भी सरकार के अधीन थे!

(3) मिश्रित अर्थव्यवस्था क्या हैं (Mix Economy in hindi) – 

मिश्रित अर्थव्यवस्था में कुछ लक्षण राज्य अर्थव्यवस्था के तथा कुछ लक्षण पूंजीवादी अर्थव्यवस्था के विद्वान होते हैं इसका प्रतिपादन “द जर्नल थ्योरी ऑफ एंप्लॉयमेंट इंटरेस्ट एंड मनी” 1936 के लेखक ब्रिटिश अर्थशास्त्री जॉन मेनार्ड केंस ने किया था! द्वितीय विश्वयुद्ध के समाप्ति के पश्चात उपनिवेशवाद के चंगुल से निकले दुनिया के कई देशों ने मिश्रित अर्थव्यवस्था को अपनाया है! भारतीय अर्थव्यवस्था भी मिश्रित अर्थव्यवस्था है!  

शेष विश्व के साथ अंतर संबंधों के आधार पर अर्थव्यवस्था के प्रकार (Types of Economy Based on Interrelationships with Rest of the World in hindi) – 

(1) खुली अर्थव्यवस्था (Open economy in hindi) – 

खुली अर्थव्यवस्थाएँ वे अर्थव्यवस्था होती है, जो विश्व के अन्य देशों के साथ वस्तुओं और सेवाओं के व्यापार और निवेश के लिए स्वतंत्र होती है! वर्तमान में विश्व की लगभग सभी अवस्थाएं खुली अर्थव्यवस्था हैं! 

(2) बंद अर्थव्यवस्था (Closed economy in hindi)  – 

बंद अर्थव्यवस्थाएँ वे अर्थव्यवस्था होती है, जिनका अन्य अर्थव्यवस्थाओं के साथ कोई आर्थिक संबंध नहीं होता अर्थात ये अर्थव्यवस्थाएँ विश्व के अन्य देशों के साथ वस्तुओं और सेवाओं के व्यापार और निवेश के लिए स्वतंत्र नहीं होती हैं!  

इन्हें भी पढ़ें –

अर्थव्यवस्था एवं अर्थव्यवस्था के प्रकार

Leave a Comment

error: Content is protected !!