द्वितीय विश्वयुद्ध 1939 (Second World War in hindi)

History Of Second World War in hindi  द्वितीय विश्वयुद्ध (Second World War History in hindi ) – प्रथम विश्वयुद्ध की समाप्ति के उपरांत यह कहा गया कि युद्ध को समाप्त करने वाला युद्ध था! परंतु इस युद्ध के महज 20 वर्षों के पश्चात ही विश्व को दूसरे महायुद्ध का सामना करना पड़ा, जो अपने स्वरूप, … Read more

पुनर्जागरण(Punarjagran)क्या है ? पुनर्जागरण के कारण एवं विशेषताएं

पुनर्जागरण (Punarjagran) – पुनर्जागरण (Renaissance) फ्रेंच भाषा का शब्द है, जिसका शाब्दिक अर्थ है – ‘फिर से जागना’ किंतु यहां रेनेसां का अर्थ किसी सोए हुए व्यक्ति को निंद्रा से जागना नहीं, बल्कि समस्त मानव जाति का जागृत होना है! वस्तुतः पुनर्जागरण कोई राजनीतिक अथवा धार्मिक आंदोलन न होकर मानव की मनोदशा में हुए परिवर्तन को … Read more

औद्योगिक क्रांति (audyogik Kranti)के कारण एवं परिणाम

औद्योगिक क्रांति(industrial revolution) की परिभाषा – वह आर्थिक एवं शिल्प वैज्ञानिक विकास जो 18 सताब्दी में अधिक सशक्त और तीव्र हो गया था, जिसके फलस्वरूप आधुनिक उद्योगवाद का जन्म हुआ, को औद्योगिक क्रांति (audyogik Kranti) कहा जाता है!  मोटे तौर पर औद्योगिक क्रांति से तात्पर्य उन आधारभूत परिवर्तनों से है जिनके फलस्वरूप यह संभव हो … Read more

Famous French Revolution 1789 In Hindi

The French Revolution In Hindi  फ्रांस की क्रांति ( France ki Kranti ) – 1789 की फ्रांसीसी क्रांति आधुनिक विश्व के इतिहास की असाधारण घटना थी! 18वीं शताब्दी के अंतिम चरण में गठित यह युगांतकारी  घटना कुछ ऐसे महत्वपूर्ण सिद्धांतों को कार्य रूप में परिणत करने का प्रयास था जिनसे इस शताब्दी के प्रबुद्ध फ्रेंच … Read more

प्रथम विश्व युद्ध (Pratham Vishav Yudh 1914) के कारण एवं परिणाम

first world war

प्रथम विश्व युद्ध ( First world War in hindi) – प्रथम विश्वयुद्ध (Pratham Vishav Yudh) की शुरुआत 28 जुलाई 1914 को ऑस्ट्रिया द्वारा सर्वे पर आक्रमण किए जाने के साथ हुई! यह युद्ध 4 वर्षों तक चला! इसमें 37 देशों ने भाग लिया! प्रथम विश्व युद्ध ( Pratham Vishav Yudh)के दौरान संपूर्ण विश्व मित्र राष्ट्र … Read more

इंग्लैंड की क्रांति(England ki kranti) के कारण एवं परिणाम लिखिए

इंग्लैंड की क्रांति 1688 (Revolution of England in hindi) – इंग्लैंड की क्रांति से तात्पर्य 1688 ई. में हुई गौरवशाली क्रांति या रक्तहीन क्रांति से है! इसे गौरवशाली क्रांति या रक्तहीन क्रांति इसलिए कहा जाता है, क्योंकि इस क्रांति में किसी भी व्यक्ति के रक्त की एक बूंद भी नहीं बही और केवल प्रदर्शन एवं … Read more

error: Content is protected !!