क्लोनिंग(Cloning)क्या है? क्लोनिंग के लाभ-हानि

cloning

क्लोनिंग क्या है(What is Cloning) – क्लोनिंग(Cloning) का सामान्य अर्थ हमशक्ल तैयार करना! क्लोन एक ऐसी जैविक रचना है जो एकमात्र जनक(माता/पिता) से अलैंगिक विधि द्वारा उत्पन्न होती है! उत्पादित क्लोन अपने जनक से शारीरिक और अनुवांशिक रूप से पूर्णत: समरूप होता है! अतः किसी भी जीव का प्रतिरूप तैयार करना ही क्लोनिंग है!  क्लोन … Read more

Computer Network In Hindi –

Computer network

What is Computer Network In Hindi – दो या दो से अधिक कंप्यूटर को जब किसी माध्यम से कनेक्ट किया जाता है तब बनने वाला ग्रुप (Computer network) कंप्यूटर नेटवर्क कहलाता है! (Computer Network) कंप्यूटर नेटवर्क, संसाधनों के सम्मिलित उपयोग हेतु आपस में जुड़े हुए कंप्यूटर का सेट होता है!  कंप्यूटर नेटवर्क (Computer Network) में … Read more

प्रमुख सोशल नेटवर्किंग साइटस और उनके संस्थापक, मुख्यालय, स्थापना वर्ष,CEO, important social networking sites,

प्रमुख सोशल नेटवर्किंग साइटस और उनके संस्थापक मुख्यालय, स्थापना वर्ष, CEO,

सोशल नेटवर्किंग –

सोशल नेटवर्किंग (Social Networking) का अर्थ है सामाजिक रूप से आपस में जोड़ना या जोड़ना ! इसमें अपनी प्रोफाइल के माध्यम से सूचना का आदान प्रदान किया जाता है ! ( important social networking sites )

सोशल नेटवर्क शब्द का सर्वप्रथम प्रयोग 1950 में हुआ ! 

सोशल नेटवर्किंग सर्विसेज प्रकार की होती है ! 

(1) विषय वस्तु आधारित ( यूट्यूब ) 

(2) प्रोफाइल आधारित ( फेसबुक ) 

सोशल नेटवर्किंग साइट सूचना प्रौद्योगिकी पर आधारित होती है ! 

सोशल नेटवर्किंग साइट का विकास 1990 से आरंभ हुआ ! 

जियोसिटीज साइट – 1995 

थेगलोब.कॉम – 1994

ट्रायपोड.कॉम – 1995

उपरोक्त तीनों साइड का उद्देश्य से उपलब्ध कराना था

फ्रेंड स्टार – 2002

सोशल मीडिया क्या है? –

Read more

कृत्रिम बुद्धिमता(Artificial intelligence Hindi) से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य

 कृत्रिम बुद्धिमत (Artificial intelligence Hindi Mppsc) से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्य – कृत्रिम बुद्धिमता के अंतर्गत मशीनों में मानव जैसे बौद्धिक क्षमता विकसित करने का प्रयास किया जाता है ताकि मशीनें परिस्थितियों के अनुरूप निर्णय ले सकें तथा बिना मानवीय आदेश के कार्य कर सकते हैं!  कृत्रिम बुद्धिमता(Artificial intelligence Hindi) रोबोटिक सिस्टम पर काम करता … Read more

उपग्रह एवं अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी (Satellite Space Technology)

उपग्रह एवं अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी(Satellite Space Technology) – अंतरिक्ष विज्ञान द्वारा स्पेस फ्लाइट ,उपग्रहों या अंतरिक्ष अन्वेषण में उपयोग की जाने वाली प्रौद्योगिकी की अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी लाती है (Satellite Space Technology) अंतरिक्ष एक विशाल त्रिविमीय क्षेत्र है जो पृथ्वी के वायुमंडल की समाप्ति की सीमा से आरंभ होता है!  भारत में 1960 के दशक में प्रारंभिक … Read more

नैनो टैक्नोलॉजी इन हिंदी (Nano Technology Hindi)

nano technology hindi

    नैनो टेक्नोलॉजी क्या है (What Is Nano Technology hindi) – नैनो एक ग्रीक भाषा का शब्द है, जिसका शाब्दिक अर्थ होता है – सूक्ष्म या छोटा! 100 नैनोमीटर या उससे छोटे कणों को नैनो कण माना जाता है!    नैनो टेक्नोलॉजी सूक्ष्मता के मापन, अध्ययन और अनुप्रयोग पर आधारित विज्ञान की शाखा है! … Read more

रोबोटिक्स(robotics)क्या है? रोबोटिक्स से जुड़े तथ्य

    रोबोटिक्स से जुड़े महत्वपूर्ण तथ्य ( Robotics one liner fact ) –  रोबोटिक्स(robotics)क्या है– ‘रोबोटिक्स(Robotics)’ विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी एक शाखा है जिसके अंतर्गत रोबोट के डिजाइन, निर्माण, संचालन एवं अनुप्रयोगों का अध्ययन किया जाता है!   रोबोट के निर्माण में भौतिकी, पदार्थ विज्ञान, मैकेनिकल इंजीनियरिंग ,इलेक्ट्रॉनिक्स तथा कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के ज्ञान की आवश्यकता होती … Read more

विज्ञान के प्रमुख मौलिक सिद्धांत (Top Vigyaan ke molik sidhant)

 

Vigyaan ke molik sidhant

विज्ञान के प्रमुख मौलिक सिद्धांत ( Fandamental law of science Ya Vigyaan ke Molik Sidhant ) – 

भौतिक विज्ञान ( Bhautik Vigyaan ke Molik Sidhant ) –

भौतिकी –  
भौतिकी की प्राकृतिक विज्ञान की वह शाखा है जिसमें द्रव्य तथा ऊर्जा और उसके परस्पर क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है 

न्यूटन के नियम

(1) न्यूटन का प्रथम गति  नियम –
यदि कोई वस्तु विराम अवस्था में है तो वह विराम अवस्था में ही रहेगी या यदि वस्तु एक समान चाल से सीधी रेखा में गति कर रही है तो वह गति करती रहेगी, जब तक कि उस पर कोई बाहय बल लगाकर उसकी वर्तमान अवस्था में परिवर्तन ना किया जाए! 
प्रथम नियम को गैलीलियो का नियम या जड़त्व का नियम भी कहते हैं.प्रथम नियम से बल की परिभाषा मिलती है  ! 
 
(2) न्यूटन का द्वितीय गति नियम 
किसी वस्तु के संवेग में परिवर्तन की दर उस वस्तु पर लगाए गए बल के समानुपाती होती है, संवेग में परिवर्तन की बल की दिशा में होता है 
F = MA
 
(3) न्यूटन का तृतीय गति नियम –
प्रत्येक क्रिया के बराबर परंतु विपरीत दिशा में प्रतिक्रिया होती है , उदाहरण – बंदूक से गोली चलाने पर चलाने वाले को पीछे  की ओर धक्का लगता है ,राकेट को उड़ाने में! 

Vigyaan ke Molik Sidhant

संवेग संरक्षण का नियम –

यदि कणों के किसी समूह या निकाय पर कोई बाहय बल नहीं लग रहा हो, तो उस निकाय का कुल संवेग नियत रहता है अर्थात टक्कर के पहले का संवेग और टक्कर के बाद का संवेग बराबर होता है  ! 
 

ऊर्जा संरक्षण का नियम –

ऊर्जा को ना तो उत्पन्न ने किया जा सकता है और न ही नष्ट किया जा सकता है ! ऊर्जा केवल एक रूप से दूसरे रूप में परिवर्तित की जा सकती है !जब भी ऊर्जा  किसी रूप में लुप्त होती है तब उतनी ही ऊर्जा अन्य रूपों प्रकट होती है ! अत: विश्व की संपूर्ण ऊर्जा का परिमाण स्थिर रहता है ! यह ऊर्जा संरक्षण का नियम कहलाता है  ! 

Read more

इलेक्ट्रॉनिक(electronici)की से जुड़े महत्वपूर्ण फैक्ट –

इलेक्ट्रोनिकी (electronici) Mppsc के लिए तकनीकी की वह शाखा जिसमें उपकरण कम विभव एवं कम धारा पर आधारित होते इलेक्ट्रॉनिक(Electronici) कहलाते हैं! इसका आधार विद्युत धारा है!  किसी चालक में विद्युत आवेश के प्रवाह की दर को विद्युत धारा कहते है, विद्युतधारा का SI मात्रक एंपियर (Ampier) है ! यह अदिश राशि हैं  विद्युत परिपथ … Read more

Pramukh Vigyaan Purskarविज्ञान के क्षेत्र में दिए जाने वाले प्रमुख पुरस्कार

      प्रमुख विज्ञान पुरस्कार (pramukh vigyaan purskar) – विज्ञान के क्षेत्र में उत्कृष्ट योगदान देने हेतु, प्रतिवर्ष अनेक वैज्ञानिकों को पुरस्कृत किया जाता है इसमें से कुछ प्रतिष्ठित पुरस्कार (Pramukh Vigyaan Purskar) इस प्रकार है!   (1) कलिंग पुरस्कार – कलिंग पुरस्कार एक व्यक्ति या व्यक्तियों को यूनेस्को द्वारा प्रतिवर्ष दिया जाता है … Read more

error: Content is protected !!